बाबा साहब कहते थे जाति व्यवस्था है मानसिक रोग

बसपा सुप्रीमो मायावती ने लखनऊ से बयान जारी करके कहा, बाबा साहब कहते थे, जाति व्यवस्था एक मानसिक रोग है। ये अंतरजातीय खान-पान या एक-दो अंतर्जातीय शादियां हो जाने से खत्म हो जाने वाली नहीं है।

बाबा साहब के मुताबिक हिंदूत्व आधारित शिक्षाएं इसकी मुख्य वजह हैं। कड़वी चीज को कभी मीठा नहीं बनाया जा सकता। किसी चीज का स्वाद तो बदला जा सकता है लेकिन जहर को अमृत नहीं बनाया जा सकता। बहनजी ने कहा, जातिवादी उत्पीड़न की वजह से हैदराबाद के छात्र रोहित ने आत्महत्या की है, ये मामला अभी शांत भी नहीं हुआ और देश के उच्च संवैधानिक पद पर बैठी महिला के बयान ने आग में घी का काम किया है।
बसपा सुप्रीमो मायावती ने मोदी सरकार को याद दिलाया की बीते दिनो संसद और राज्यसभा में स्मृति ईरानी द्वारा रोहित को लेकर जो बयान बाजी की गई वो सब महज एक छलावा हैं जिस तरह से रोहित की मौत को दबाया जा रहा हैं वो सब एक मोदी सरकार द्वारा पुराना हथकंडा हैं। बसपा सुप्रीमो मायावती ने नरेंद्र मोदी पर एक बार फिर निशाना साधा और कहा कि अगर रोहित को न्याय न मिला तो माना जाएगा कि रोहित की मौत पर उनका भावुक होना नाटकबाजी थी और उनके आंसू घड़ियाली आंसू थे।
बता दें क‌ि बीते द‌िनों लखनऊ आए नरेंद्र मोदी छात्र रोह‌ित की आत्महत्या का ज‌िक्र करके भावुक हो गए थे। उन्होंने कहा जिस देश में जन्म के आ‌धार पर जातिवादी व्यवहार किया जाता हो वहां इसके सं‌वैधानिक निदान को खत्म करने की बात करना अन्याय है। ऐसा करना शोषण, उत्पीड़न और अन्याय को बढ़ावा देना होगा।